भारतीय खगोल वैज्ञानिकों (Indian Astronomers) ने  ‘वुल्फ-रेएट' तारे (Wolf-Rayet Stars) या डब्ल्यूआर तारे का पता लगाया

भारतीय खगोल वैज्ञानिकों (Indian Astronomers) ने एक दुर्लभ सुपरनोवा विस्फोट की निगरानी की और एक ‘वुल्फ-रेएट' तारे (Wolf-Rayet Stars) या डब्ल्यूआर तारे का पता लगाया, जो सबसे गर्म तारे में एक है. विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विभाग ने एक बयान में यह जानकारी दी. बयान के मुताबिक दुर्लभ वुल्फ-रेएट तारे ((Wolf-Rayet Stars)) सूर्य से एक हजार गुना अधिक प्रकाशमान होते हैं, जिस कारण खगोल वैज्ञानिक लंबे समय तक संशय में रहे. ये आकार में बहुत बड़े तारे हैं. इस तरह के सुपरनोवा विस्फोट की निगरानी से वैज्ञानिकों को इन तारों की जांच में सहयोग मिलेगा, जो कि अब तक उनके लिए पहेली बनी हुई थी

TAGS